Breaking News

Masonry Layout

covid victims entitled to ex gratia compensation supreme court directs ndma to frame guidelines within 6weeks

COVID-19 पीड़ितों के परिजन मुआवजे के हकदार; सुप्रीम कोर्ट ने एनडीएमए को 6 सप्ताह के भीतर दिशानिर्देश तैयार करने के निर्देश दिए- सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का संवैधानिक दायित्व है कि वह COVID-19 महामारी के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के …

Read More »

only in indian supreme court can one come against procedural direction at interim stagewont happen in scotus sc

सिर्फ भारत के सुप्रीम कोर्ट में कोई एकल जज द्वारा अंतरिम चरण में पारित प्रक्रियात्मक निर्देश के खिलाफ आ सकता है, यूएस सुप्रीम कोर्ट में ऐसा नहीं होगा-   न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ ने मंगलवार को टिप्पणी की, “यह केवल भारत के सुप्रीम कोर्ट में होता है कि कोई एकल …

Read More »

to be part of supreme court is a matter of pride justice ashok bhushan birds farewell to sc

“सुप्रीम कोर्ट का हिस्सा होना गर्व की बात” : जस्टिस अशोक भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में विदाई के दौरान कहा-   सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर न्यायमूर्ति अशोक भूषण का आज आखिरी कार्यदिवस था। वह 4 जुलाई को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। परंपरा के मुताबिक, भारत के मुख्य …

Read More »

compelling a married woman to live in her parental home amount to cruently madhya pradesh high court 176579

एक विवाहित महिला को अपने माता-पिता के घर में रहने के लिए मजबूर करना क्रूरता के समानः मध्यप्रदेश हाईकोर्ट- मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने हाल ही में कहा है कि शादी के बाद एक विवाहित महिला को अपने पैतृक घर में रहने के लिए मजबूर करना क्रूरता है और इसलिए यह …

Read More »

live in relation take care of girls basic needs ensure dignified life mp high court directs man para legal volunteer to visit their residence 176347

लिव-इन रिलेशन-”लड़की की बुनियादी जरूरतों का ख्याल रखें, गरिमापूर्ण जीवन सुनिश्चित करें”: मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने पुरूष को निर्देश दिया; पैरा लीगल वालंटियर उनके आवास का दौरा करें – मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने गुरुवार को एक 18 वर्षीय लड़की के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रहने की इच्छा रखने वाले एक व्यक्ति को …

Read More »

Bar council decisions amounts to misconduct bci amends rules to improve standards of professional conduct etiquette for advocates

बार काउंसिल के फैसलों की आलोचना कदाचार के बराबर: बीसीआई ने ‘वकीलों के लिए व्यावसायिक आचरण और शिष्टाचार के मानकों में सुधार’ के लिए नियमों में संशोधन किया   बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने नियमों में संशोधन किया है, जिसके तहत सदस्यों द्वारा बार काउंसिल के फैसलों की ‘आलोचना’ और …

Read More »

Unique decision of the court in mumbai feeding birds from balcony is nuisance to neighbours

मुंबई में अदालत का अनूठा फैसला:कबूतरों के लिए बालकनी में दाना डालता था एक परिवार, पड़ोसियों की शिकायत पर कोर्ट ने रोक लगाई   मुंबई सिविल कोर्ट ने वर्ली इलाके में एक अपार्टमेंट में रहने वाले परिवार को बालकनी में कबूतरों को दाना खिलाने पर रोक लगा दी है। सोसाइटी …

Read More »

सेवा लाभ- लिव-इन रिलेशनशिप में रही महिला साथी के पास कानूनी रूप से विवाहित पत्नी से बेहतर दावा नहीं हो सकता: केरल उच्च न्यायालय

सेवा लाभ- लिव-इन रिलेशनशिप में रही महिला साथी के पास कानूनी रूप से विवाहित पत्नी से बेहतर दावा नहीं हो सकता: केरल उच्च न्यायालय केरल उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने बुधवार को एक वैवाहिक अपील पर महत्वपूर्ण फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा, जब एक पुरुष और दो महिलाओं का …

Read More »

“यह उदाहरण है कि कैसे निर्णय नहीं लिखा जाना चाहिए”: पटना हाईकोर्ट ने दहेज हत्या मामले में मृत्युदंड की सजा रद्द की

“यह उदाहरण है कि कैसे निर्णय नहीं लिखा जाना चाहिए”: पटना हाईकोर्ट ने दहेज हत्या मामले में मृत्युदंड की सजा रद्द की पटना हाईकोर्ट ने दहेज हत्या मामले में निचली अदालत के मृत्युदंड की सजा के आदेश को रद्द करते हुए कहा कि यह उदाहरण है कि कैसे निर्णय नहीं …

Read More »

‘व्यक्तिगत शिकायत को जनहित याचिकाओं के माध्यम से नहीं सुलझाया जा सकता’: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गैंगस्टर विकास दुबे की आपराधिक गतिविधियों पर एसआईटी रिपोर्ट पर कार्रवाई की मांग करने वाले याचिकाकर्ता पर जुर्माना लगाया

‘व्यक्तिगत शिकायत को जनहित याचिकाओं के माध्यम से नहीं सुलझाया जा सकता’: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गैंगस्टर विकास दुबे की आपराधिक गतिविधियों पर एसआईटी रिपोर्ट पर कार्रवाई की मांग करने वाले याचिकाकर्ता पर जुर्माना लगाया इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गैंगस्टर विकास दुबे की कथित आपराधिक गतिविधियों में सहायता करने वाले 90 सरकारी …

Read More »

बेहद दुर्भाग्यपूर्ण”, उड़ीसा हाईकोर्ट ने अनावश्यक रूप से सुनवाई स्थगित करने के लिए अनुपस्थित वकील पर पांच हजार रूपये का जुर्माना लगाया

बेहद दुर्भाग्यपूर्ण”, उड़ीसा हाईकोर्ट ने अनावश्यक रूप से सुनवाई स्थगित करने के लिए अनुपस्थित वकील पर पांच हजार रूपये का जुर्माना लगाया उड़ीसा हाईकोर्ट ने मंगलवार को एक वकील पर पांच हजार रूपये का जुर्माना लगाया। दरअसल, इस मामले के लिए एक विशेष तारीख तय होने के बावजूद वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग मोड …

Read More »