Breaking News

युगल ने दो विवाह समारोह आयोजित किए, सप्तपदी के जर‌िए बाद में विवाह किया: गुजरात हाईकोर्ट ने रजिस्ट्रार को तिथि में परिवर्तन के लिए आवेदन पर विचार करने का आदेश दिया

“युगल ने दो विवाह समारोह आयोजित किए, सप्तपदी के जर‌िए बाद में विवाह किया: गुजरात हाईकोर्ट ने रजिस्ट्रार को तिथि में परिवर्तन के लिए आवेदन पर विचार करने का आदेश दिया “


गुजरात हाईकोर्ट ने एक र‌िट याचिका को अनुमति दी है, जिसमें विवाह पंजीयक को एक नया विवाह प्रमाण पत्र जारी करने के लिए याचिकाकर्ताओं के आवेदन पर विचार करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई थी। विवाह प्रमाणपत्र पर उस तारीख के बजाय, जिसमें जोड़े ने एक छोटी सी सभा की मौजूदगी में एक दूसरे को वरमाला पहनाई थी, उस तारीख का उल्‍लेख किया गया है, जिसमें ‘सप्तपदी’ के साथ धूमधाम से शादी की गई थी। COVID-19 की महामारी और सार्वजनिक स्तर पर भीड़ जुटाए जाने पर सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के कारण, रिट आवेदकों ने बहुत कम संख्या में रिश्तेदारों की मौजूदगी के साथ विवाह किया। शादी का निमंत्रण तैयार नहीं हुआ था और जोड़े ने केवल मालाओं का आदान-प्रदान, मंगलसूत्र बांधने और सिंदूर लगाने की रस्में निभाईं। हालांकि, “दत्त होमा” और “सप्तपदी” का आयोजन नहीं किया गया था।


About admin

Check Also

तब्लीगी जमात के सदस्यों को ब्लैक लिस्ट करने की याचिका : केंद्र ने समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट से समय मांगा

“तब्लीगी जमात के सदस्यों को ब्लैक लिस्ट करने की याचिका : केंद्र ने समाधान के …