Breaking News

इन्दलपुर लालू गांव के पात्र धारक आवास के लिए जिम्मेदारों के लगा रहे चक्कर अपात्रों को दे दिए गए आवास जिम्मेदार मूकदर्शक

इन्दलपुर लालू गांव के पात्र धारक आवास के लिए जिम्मेदारों के लगा रहे चक्कर अपात्रों को दे दिए गए आवास जिम्मेदार मूकदर्शक

 

  • एंकर– जब सैंया भए कोतवाल तो डर काहे का यह कहावत सटीक बैठती है इंदलपुर लालू गांव की जिम्मेदार ग्राम प्रधान पर जी हां यह गांव अक्सर ही भ्रष्टाचार के खेल में चर्चित रहता है यहां पर हर काम पैसे पर होता है पात्र को अपात्र अपात्र को पात्र बनाना यहां के ग्राम प्रधान को महारत हासिल है और जिम्मेदार भी इस महारत को साकार करने में पूरा सहयोग देते हैं देखिए यह स्पेशल रिपोर्ट

वीओ– कानपुर देहात के रसूलाबाद विकासखंड क्षेत्र के ग्राम पंचायत इंदरपुर लालू अक्सर चर्चाओं में बनी रहती है क्योंकि यहां पर भ्रष्टाचार अपने चरम सीमा पर होता है कुछ ऐसा ही खेल खेला गया जहां पर गरीबों को दिए जाने वाले आवास अपात्र को दे दिए गए जानकारी जब हुई जब गांव के लोगों में आवास को लेकर चर्चाएं शुरू हुई और फिर चला आरोप-प्रत्यारोप का दौर वहीं पर जब पब्लिक एप की टीम ने ग्रामीणों से पूरी जानकारी ली तो हकीकत सामने आ गई नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान इंद्रपाल बर्मा चुनाव में जो भी इनका सहयोग किया उसी को ही सरकारी योजनाओं से यह लाभान्वित कर रहे हैं और गांव के लोग इस बात पर विरोध कर रहे हैं तो उनको सरकारी योजनाओं से वंचित किया जा रहा है और योजनाओं के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति हो रही है ग्रामीणों ने दबी जुबान में बताया गांव के ही ज्योति वाइफ ऑफ चंद्र प्रकाश जिन्होंने कुछ दिन पहले एक खेत खरीदा और उस खेत में एक झोपड़ी रख दी प्रधान जी ने जिम्मेदारों से सर्वे कराकर आवास आवंटित करा दिया और 40000 की किस्त उसके खाते में लगा दी जानकारी तब हुई आवास योजना लिस्ट में नाम देखा गया फिर इसके बाद लोगों ने विरोध किया और सोशल मीडिया पर वायरल किया गया जिसके बाद जिम्मेदारों ने जांच का विषय बताकर मामले को रफा-दफा कर दिया वही गांव के शशि प्रभा पत्नी महेंद्र, निशू पत्नी बबलू उमा कांति पत्नी जीतू मंजू देवी पत्नी सहित कई लोगों ने बताया आवास के हकदार होने के बावजूद भी कच्चे घरों में रहने को मजबूर हैं हकीकत यह है कि बारिश होने के बावजूद रहने को जगह नहीं होती है घर के अंदर बारिश की वजह से बाढ़ सी आ जाती है और जिम्मेदार इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं हालांकि देखने वाला सवाल यह है कि इंदलपुर लालू गांव अक्सर भ्रष्टाचार के खेल में चर्चा में रहता है और जिम्मेदार भी जानबूझकर अनजान बन जाते हैं इससे साफ यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि हर भ्रष्टाचार के खेल में जिम्मेदारों का पूरा हाथ होता है अब देखना यह होगा कि आखिर में अपात्र को पात्र बता कर दिए गए आवास की कब जांच होती है और पात्र धारकों को कब आवास मिल पाएंगे और भ्रष्टाचार करने वाले ग्राम प्रधान पर जिम्मेदार क्या कार्रवाई करेंग

 

 

रिपोर्टर—हरिश्चंद्र कानपुर देहात 

               23/07/2021

बाईट—जीत सिंह कुशवाह (ग्रामीण)

बाईट—बब्लू कुशवाह (ग्रामीण)

About admin

Check Also

तब्लीगी जमात के सदस्यों को ब्लैक लिस्ट करने की याचिका : केंद्र ने समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट से समय मांगा

“तब्लीगी जमात के सदस्यों को ब्लैक लिस्ट करने की याचिका : केंद्र ने समाधान के …